अहमदाबाद : घर जाने की मांग को लेकर इक्कठा हुए मजदूरों ने पुलिस कर्मियों पैर पथराव किया

गुजरात के अहमदाबाद में सोमवार को सड़क पर कम से कम 100 प्रवासी कामगार इकट्ठा हो गए. इन कामगारों ने पुलिसकर्मियों और लोगों पर पथराव किया. एक स्थानीय निवासी ने बताया कि प्रवासी कामगारों की मांग है कि उन्हें घर लौटने दिया जाए. शहर के पुलिस नियंत्रण कक्ष के एक अधिकारी ने बताया कि पुलिस ने भीड़ तो तितर-बितर करने के लिए आंसू गैसे के गोले छोड़े और कई संदिग्धों को हिरासत में ले लिया. कम से कम 100 प्रवासी कामगार आईआईएम अहमदाबाद और वस्त्रपुर इलाके को जोड़ने वाली सड़क पर सुबह इकट्ठा हो गए और वहां से वाहनों पर गुजर रहे पुलिसकर्मियों और लोगों पर पथराव करने लगे.

घटना की जानकारी मिलने पर बड़ी संख्या में पुलिसकर्मियों को वहां भेजा गया. पुलिस ने भीड़ को नियंत्रित करने के लिए आंसू गैसे के गोले छोड़े और स्थिति को नियंत्रित किया. आरोपी कामगारों को पकड़ने के लिए अभियान चलाया जा रहा है. कई संदिग्धों को घटनास्थल से ही हिरासत में ले लिया गया है.

महामारी के कारण हुए लॉकडाउन में गुजरात के प्रवासी श्रमिकों को परेशानी का सामना करना पड़ रहा है. ये श्रमिक यहां मीलों में काम करते हैं जैसे डायमण्ड मिल रोलिंग मिल, एम्ब्रोयडरी, बिल्डिंग और स्टील उद्योग. राज्य में कम से कम 21 लाख से भी अधिक श्रमिक गुजरात की प्रगति में अपना सहयोग दे रहे हैं. लॉकडाउन के चलते इन श्रमिकों के पास ना काम है और ना जानें को मिल रहा है.

रेलवे ने परप्रांतीय श्रमिकों को उनकी घर वापसी के लिए कई श्रमिक विशेष ट्रेन का संचालन किया है. 1600 श्रमिकों को लेकर शुक्रवार को श्रमिक विशेष ट्रेन अहमदाबाद से सुबह तकरीबन 10 बजे रवाना हुई. इसके लिए पिछले 10 दिनों से रजिस्ट्रेशन चालू किए गए हैं. सूरत से भी प्रवासी श्रमिकों को लेकर ट्रेन उत्तर भारत के लिए रवाना हुई.