आईटीसी ने कहा; कोविड-19 के चलते निकट भविष्य का परिदृश्य अनिश्चित

नई दिल्ली; 04 सितंबर । विभिन्न क्षेत्रों में कार्यरत आईटीसी समूह ने कहा है कि कोविड-19 का प्रभाव अभी जारी है और इसके चलते निकट भविष्य का परिदृश्य अनिश्चित है। आईटीसी लि. के चेयरमैन संजीव पुरी ने कहा कि स्थानीय स्तर पर लॉकडाउन की वजह से भी पुनरोद्धार की रफ्तार प्रभावित हो रही है। पुरी ने कहा कि होटल और सिगरेट; शिक्षा तथा स्टेशनरी उत्पाद (ईएसपीबी) क्षेत्र को छोड़कर अन्य सभी परिचालन वाले क्षेत्रों में पहली तिमाही के अंत से स्थिति सामान्य होती दिख रही है। कंपनी की सालाना आमसभा में शेयरधारकों को संबोधित करते हुए पुरी ने कहा; ‘‘निकट भविष्य का परिदृश्य अनिश्चित है; क्योंकि अभी महामारी का प्रभाव समाप्त होता नहीं दिख रहा है।’’ पुरी ने कहा कि कंपनी स्थिति पर नजदीकी नजर रखेगी और बाजार में अपनी स्थिति मजबूत करने के लिए तेजी से प्रतिक्रिया देगी। उन्होंने कहा कि बाजार में विवेकाधीन खर्च कम है और उपभोक्ताओं के बर्ताव में बदलाव आया है और वे मूल्य चाहते हैं। वे बड़े पैक खरीदने को प्राथमिकता दे रहे हैं। पुरी ने कहा कि 2020-21 में भारतीय अर्थव्यवस्था में बड़ी गिरावट आने का अनुमान है। उन्होंने कहा कि इससे आजीविका के अवसरों में भारी गिरावट आएगी जिससे उपभोक्ता खर्च पर दबाव और बढ़ेगा। उन्होंने कहा कि इस तरह की महामारी जैसे घटनाक्रमों से अवसर भी पैदा हुए हैं। ऐसे में नवोन्मेषण और सृजनात्मकता के अवसर बढ़े हैं। इनके जरिये अधिक स्थायित्व और समावेशी भविष्य को आकार दिया जा सकता है। पुरी ने कहा कि आगे चलकर भविष्य उन उद्देश्यपूर्ण उपक्रमों का होगा जो प्रतिस्पर्धा कर सकेंगे और बाहरी झटकों पर तेजी से प्रतिक्रिया दे सकेंगे तथा संकट से और मजबूत होकर उभरेंगे।