बॉल टैंपरिंग: स्टीव स्मिथ, डेविड वार्नर और कैमरन बैनक्रॉफ्ट सस्पेंड

बॉल टैंपरिंग मामले में शामिल तीनों खिलाड़ियों स्टीव स्मिथ, डेविड वॉर्नर और कैमरन बैनक्रॉफ्ट को सस्पेंड कर उन्हें वापस घर लौटने का फरमान सुना दिया है। मंगलवार ( 27 मार्च) को ऑस्ट्रेलिया क्रिकेट सीईओ जेम्स सदरलैंड ने एक प्रेस कॉन्फ्रेंस में यह जानकारी दी है। उन्होंने बताया कि फिलहाल ऑस्ट्रेलियाई टीम के कप्तानी विकेटकीपर बल्लेबाज टिम पेन को टीम को सौंपी गई है। वहीं टीम के कोच डैरेन लेहमन को इस मामले में क्लीन चिट दे दी गई है। जेम्स सदरलैंड ने अधिकारिक रूप से बताया कि स्टीव स्मिथ, डेविड वार्नर और कैमरन बैनक्रॉफ्ट ने ऑस्ट्रलिया क्रिकेट की आचार सहिंता 2.3.5 का उल्लघंन किया है।

सदरलैंड ने प्रेस कॉन्फ्रेंस कर कहा कि ‘क्रिकेट ऑस्ट्रेलिया के लिए रविवार के बाद से बेहद कठीन समय रहा है। मैं क्रिकेट ऑस्ट्रेलिया की ओर से देशवासियों और क्रिकेट फैंस से माफी मांगता हूं। खासकर उन बच्चों से, जो क्रिकेट को पसंद करते हैं। यह धब्बा क्रिकेट ऑस्ट्रेलिया के लिए दुखद है। हमारी जांच अभी पूरी नहीं हुई है। स्टीव स्मिथ, डेविड वॉर्नर और कैमरन बैनक्रॉफ्ट को क्रिकेट ऑस्ट्रेलिया के कोड ऑफ कंडक्ट 2.3.5 के उलंघन का दोषी पाया है। जांच पूरी होने तक इन्हें सस्पेंड किया जा रहा है।’

बॉल टेंपरिंग मामले में सस्पेंड किए गए तीनों खिलाड़ियों को बुधवार (28 मार्च) को वापस घर भेज दिया जाएगा। सीईओ जेम्स सदरलैंड ने बताया कि इन तीनों खिलाड़ियों की जगह मैट रैनशॉ, ग्लेन मैक्सवेल और जो बर्न्स को टीम में शामिल किया गया है, जो साउथ अफ्रीका की टीम के खिलाफ चौथे टेस्ट मैच में खेलेंगे। दोनों टीम के बीच आखिरी टेस्ट मैच शुक्रवार से जोहानिसबर्ग में शुरू होगा। साथ ही उन्होंने बताया कि कोच डैरेन लेहमन अपने पद पर बने रहेंगे, उन्होंने इस्तीफा नहीं दिया है। ऑस्ट्रेलिया क्रिकेट के सीईओ जेम्स सदरलैंड ने जोहानिसगर्ब पहुंचकर ऑस्ट्रेलियन टीम के कोच डैरेन लेहमन और कप्तान स्टीव स्मिथ से बातचीत की थी। दोनों से बातचीत के बाद उन्होंने ये फैसला सुनाया है।

बता दें कि रविवार को इंटरनैशनल क्रिकेट काउंसिल (आईसीसी) ने ऑस्ट्रेलिया टीम के कप्तान स्टीव स्मिथ और ओपनर बल्लेबाज कैमरन बैनक्रॉफ्ट को बॉल टैंपरिंग मामले में दोषी पाया था, जिसके बाद आईसीसी ने स्मिथ को एक मैच बैन के साथ 100 फीसदी मैच फीस का जुर्माना लगाया। वहीं ओपनर कैमरन बैनक्रॉफ्ट पर 75 फीसदी मैच फीस का जुर्माना लगा था, साथ ही उन्हें 3 डीमेरिट पॉइंट भी दिया गया था।