हेडग्रंथी की बेटी अगवा किए जाने पर सिखों ने किया पाकिस्तान हाई कमिशन पर रोष प्रदर्शन

दिल्ली गुरुद्वारा प्रबंधक कमेटी और दिल्ली शिरोमणि अकाली दल के सदस्यों ने पाकिस्तान में गुरुद्वारा पंजा साहिब के हैडग्रंथी की बेटी के अगवा होने के खिलाफ सोमवार को पाकिस्तान हाई कमिशन के बाहर जबरदस्त रोष प्रर्दशन किया।

प्रदर्शनकारियों ने रोष प्रदर्शन के दौरान पाकिस्तान हाई कमिशन के सामने अगवा की गई हेडग्रंथी की बेटी बुलबुल को घर वापसी मांग के लिए जोर जोर से नारे लगाए। प्रदर्शन के दौरान अकाली नेताओं ने पाकिस्तान हाईकमिशन को एक ज्ञापन भी सौंपा।

प्रदर्शन का नेतृत्व दिल्ली गुरुद्वारा कमेटी के अध्यक्ष एवं अकाली नेता मनजिंदर सिंह सिरसा और दिल्ली अकाली दल के अध्यक्ष हरमीत सिंह कालका ने किया। प्रदर्शन के दौरान लोगों को संबोधित करते हुए कमेटी के अध्यक्ष सिरसा ने कहा कि पाकिस्तान की सरकार राक्षस का रूप धारण कर चुकी है। हैरानी वाली बात तो यह है कि 17 वर्षीय नाबालिग को परिवार से जबरन उठा कर ले गए। 12 से 13 दिन तक पाकिस्तानी सरकार उसका कुछ पता नहीं लगा और उसका फिर फोन आया कि उसे जबरन मदरसे में रखा हुआ है और धर्म परिवर्तन के लिए दबाव डाला जा रहा है। सिरसा ने जिस तरह का जुल्म औरंगजेब के शासन में था।

ठीक आज उसी तरफ पाकिस्तान में देखने को मिल रहा है। वहां पर गुरुद्वारा प्रबंधक कमेटी के अध्यक्ष और पूर्व अध्यक्ष ने जब भी अपने समुदायों के हज में आवाज उठाए तो उन पर देश द्रोह के फर्जी मुकद्दमें दर्ज कर दिए गए हैं। उन्होंने कहा कि पाकिस्तान में सिखों की बेटियां खासतौर पर अगवा की जा रही हैं। इससे पहले ननकाणा साहिब और अब पंजा साहिब गुरुद्वारा साहिब के हैड ग्रंथी की बेटी अगवा की गई है वहां पर यह संदेश देने का प्रयास किया गया कि सिख लड़कियां स्वंय धर्म परिवर्तन कर रही हैं। इस प्रदर्शन में सिरसा के अलावा शिरोमणि अकाली दल की दिल्ली इकाई के अध्यक्ष हरमीत सिंह कालका, वरिष्ठ उपाध्यक्ष बीबी रणजीत कौर, विदेश मामलों के इंचार्ज परमजीत सिंह चंडोक, कानूनी सलाहकार जगदीप सिंह काहलों, अकाली दल के पदाधिकारी, स्त्री विंग, यूथ विंग वर्करों के लोग मौजूद थे।