गैंगस्टर को मिलने बुलाकर मारी गोली

नई दिल्ली । दक्षिण-पश्चिमी दिल्ली के उत्तम नगर में नवादा हाउसिंग कॉम्प्लेक्स के पास एक 35 वर्षीय व्यक्ति की हत्या से जुड़ी एक सीसीटीवी फुटेज सोशल मीडिया पर वायरल हो रही है। इस फुटेज में कथित हत्यारे को युवक को तीन गोलियां मारने के बाद अपने मोबाइल फोन में मृतक की फोटो लेते हुए देखा जा सकता है। 

30 सेकेंड की वीडियो क्लिप में कथित हत्यारे ने एक पीले रंग की टी-शर्ट और उसके चेहरे पर सफेद गमछा लपेटा हुआ है और उसे हाथ में बंदूक लेकर एक आदमी का पीछे भागते देखा जा सकता है। हत्या की यह सारी वारदात गली में लगे एक सीसीटीवी कैमरे में कैद हो गई थी।

जानकारी के अनुसार, दिल्ली के नवादा हाउसिंग कॉम्पलेक्स में 22 अक्टूबर को दिनदहाड़े प्रदीप सोलंकी गैंग के शूटर गैंगस्टर विकास मेहता की हत्या के मामले में पुलिस ने एक आरोपी को गिरफ्तार किया है। आरोपी पवन गहलोत पिछले वर्ष हुई अपने भाई प्रवीण उर्फ गोलू की हत्या के लिए विकास मेहता को दोषी मानता था, इसलिए उसने गैंगस्टर को मिलने के लिए बुलाया और गोली मार दी। पुलिस पवन के बेटे कमल को भी ढूंढ रही है।

अतिरिक्त पुलिस उपायुक्त आरपी मीणा ने बताया कि छानबीन में पता चला कि विकास इलाके का घोषित बदमाश था और प्रदीप सोलंकी गिरोह के लिए काम करता था। पिछले वर्ष मई में द्वारका मोड़ पर बीच सड़क पर पवन के भाई प्रवीण गहलोत उर्फ गोलू और विकास की मौत हो गई थी। पवन इस हत्या के लिए विकास मेहता को जिम्मेदार मानता था और बदला लेना चाहता था। इसके लिए पवन ने विकास को 22 अक्टूबर को 55 फुटा रोड पर समझौता करने की बात कहकर बुलाया था। इसी दौरान पवन ने अपने बेटे को भी बुला लिया। इस बीच पवन के बेटे ने अचानक विकास पर गोलियों की बौछार कर दी। पिछले साल हुई वारदात में द्वारका मोड़ पर प्रवीण कार से जा रहा था, इसी दौरान राजस्थान नंबर की एक कार ने प्रवीण की कार को ओवरटेक किया और आगे रुक गई। हमलावरों में से एक बदमाश मोटरसाइकिल पर भी सवार था। प्रवीण की कार रुकते हुए राजस्थान नंबर की कार में बैठे बदमाशों और बाइक सवार ने ताबड़तोड़ गोलियों की बौछार कर दी थी। इस दौरान प्रवीण कार में ही ढेर हो गया था। सड़क के दूसरी ओर पीसीआर पर तैनात कॉन्स्टेबल नरेश ने गोलियों की आवाज सुनी तो बदमाशों को ललकारा। उन्होंने विकास को निशाना बनाते हुए तीन गोलियां दागीं। एक गोली विकास के हाथ पर वहीं दो गोली विकास के सिर में लगी थी।