पप्पू यादव जैसे ‘दबंगई और गुंडई’ वाले नेताओं का बिहार में कोई भविष्य नहीं – Nikhil Mandal

(hdnlive) जदयू के प्रदेश प्रवक्ता निखिल मंडल ने कहा कि हत्या समेत कई जघन्य अपराध में आरोपित पप्पू यादव किसी के मसीहा नहीं हो सकते। पप्पू यादव का इतिहास किसे नहीं पता? हत्या करके गंगा नहाने या दवा बांटने से क्या उस परिवार का दुख ख़त्म हो जाता है जिसने अपना परिजान खोया? आरोप लगाया कि अजीत सरकार हत्याकांड समेत कई मामलों में जेल में रहे पप्पू यादव आज अपनी खोयी राजनीतिक ज़मीन तलाशने के लिए दवा बांट रहे। कल गलती से पावर में आ गए तो पुराना इतिहास दोहराएंगे।

मधेपुरा विस चुनाव 2020 में आमने-सामने लड़ चुके निखिल मंडल ने कहा कि पप्पू यादव पर और 27 गंभीर मामले चल रहे हैं जो उन्होंने खुद अपने चुनावी हलफनामे में डाला है। कहा कि जहां तक जेल जाने की बात है तो यह एक पुराना मामला है जो मधेपुरा के मुरलीगंज थाने में केस संख्या 9/89 के रूप में दर्ज है। इसको लेकर 22 मार्च को कोर्ट ने गिरफ़्तारी और कुर्की का आदेश दे रखा था। कोर्ट कचहरी अपने नियम से चलता है ना कि किसी सरकार के कहने से चलता है।

जदयू प्रवक्ता ने कहा कि पुरुलिया आर्म्स केस में जो पप्पू यादव पर आरोप लगे थे, उसे आज उन्हें मसीहा बताने वाले क्या कहेंगे? बिहार इन चीजों से बहुत पहले उकता चुका। तभी पप्पू यादव और उनके जैसे तमाम ‘बाहुबलियों’ को चुनाव में मुंह की खानी पड़ी। अब कितनी भी कोशिश कर लें, इन जैसे ‘दबंगई और गुंडई’ वाले नेताओं का बिहार में कोई भविष्य नहीं है।