अखिलेश प्रसाद सिंह: बिहार वर्चुअल रैली, महामारी में भी राजनीति कर रही है बीजेपी

कांग्रेस ने केंद्रीय गृह मंत्री की बिहार चुनाव के मद्देनजर रविवार को होने वाली वर्चुअल रैली को लेकर निशाना साधा है। कांग्रेस के राज्यसभा सांसद अखिलेश प्रसाद सिंह ने कहा है कि सत्ताधारी दल कोरोना वायरस के संकट के समय में भी राजनीति कर रहा है।

अखिलेश प्रसाद सिंह ने कहा, ‘कोरोना वायरस से लोगों को बचाने के लिए प्रधानमंत्री मोदी ने देश में लॉकडाउन लागू किया था। लेकिन इसके बावजूद भी बीजेपी राजनीति के अलावा और कुछ नहीं देख रही है। बिहार के चुनाव की घोषणा भी नहीं हुई है और बीजेपी की राजनीति शुरू हो गई।’

उन्होंने कहा, ‘बिहार में लोगों को इलाज और प्रवासी श्रमिकों को घर भेजे जाने की जरूरत है। राज्य में स्वास्थ्य सेवाओं को दुरुस्त करने की आवश्यकता है, लेकिन बीजेपी वाले वर्चुअल रैली कर रहे हैं।’ कांग्रेस ने बीजेपी पर आरोप लगाया कि पार्टी सभी जिलों के दफ्तरों में मोबाइल फोन दे रही है, ताकि लोग वर्चुअल रैली को देख सकें।

उन्होंने कहा कि बिहार में कोई भी पीएम मोदी और अमित शाह का चेहरा नहीं देखना चाहता। आज आरजेडी राज्य में ‘गरीब अधिकार दिवस’ और कांग्रेस ‘श्रद्धांजलि दिवस’ मना रही है। वहीं, आपको बता दें कि बिहार में इस साल अक्टूबर और नवंबर में विधानसभा के चुनाव होने हैं।

‘पहली बार हो रही ऐसी रैली’

वहीं, बीजेपी का दावा है कि देश में पहली बार किसी राजनीतिक दल द्वारा इस तरह की डिजिटल रैली हो रही है। इसको बिहार विधानसभा चुनाव के मद्देजनर बीजेपी द्वारा कार्यकर्ताओं से संपर्क साधने का विधिवत प्रारंभ भी माना जा रहा है। बिहार चुनाव के मद्देनजर इस रैली को अहम माना जा रहा है। हालांकि, पार्टी नेताओं का कहना है कि अमित शाह मोदी सरकार के दूसरे कार्यकाल का एक साल पूरा होने पर केंद्र की उपलब्धियों पर विस्तार से अपनी बात रखेंगे। रैली सफल बनाने को बिहार प्रभारी भूपेंद्र यादव व राष्ट्रीय संगठन महामंत्री बीएल संतोष ने खुद पटना आकर तैयारियों का जायजा लिया था।