इस पनडुब्‍बी के बारे में पाकिस्‍तान ने गोपनीयता बरती

भारत के चिर प्रतिद्वंदी देश पाकिस्‍तान की नौसेना के बारे में एक बड़ा खुलासा हुआ है। पाकिस्‍तान की नौसेना एक बेहद घातक पनडुब्‍बी का इस्‍तेमाल कर रही है जिसे उसने अब तक दुनिया से छिपाकर रखा हुआ था। यह रहस्‍यमय सबमरीन पाकिस्‍तान के कराची स्थित पीएनएस इकबाल स्‍पेशल नेवल बेस पर तैनात है। इस पनडुब्‍बी के खुलासे के बाद भारत की चिंता बढ़ गई है।

अमेरिकी पत्रिका फोर्ब्‍स की रिपोर्ट के मुताबिक पाकिस्‍तानी नेवी सील इस किलर पनडुब्‍बी का इस्‍तेमाल करती है। पाकिस्‍तानी पनडुब्‍बी का नाम X-Craft है। इस पनडुब्‍बी के बारे में पाकिस्‍तान ने कितनी गोपनीयता बरती है, इसका अंदाजा इससे लगाया जा सकता है कि एक्‍सक्राफ्ट के बारे में किसी भी किताब या दस्‍तावेज में जिक्र नहीं है। फोर्ब्‍स के मुताबिक पहली बार इस गोपनीय पनडुब्‍बी के बारे में दुनिया को पता चला है।

पाकिस्‍तान की पनडुब्‍बी बेहद छोटी लेकिन घातक है। इसे स्‍पेशल फोर्सेस के लिए बनाया गया है। यह पनडुब्‍बी 55 फीट लंबी और 7 से 8 फीट चौड़ी है। यह आम पनडुब्‍बी का एक हिस्‍सा मात्र है। एक्‍सक्राफ्ट का इस्‍तेमाल और इसे कहां जाना है, इसका फैसला पाकिस्‍तान का स्‍पेशल सर्विस ग्रुप (SSG N) करता है। यह अमेरिका के नेवी सील की तरह से काम करता है। इसीलिए इन्‍हें पाकिस्‍तानी नेवी सील कहा जाता है। यह समूह लंबे समय से अमेरिकी नेवी सील से प्रशिक्षण लेता रहा है।

पाकिस्‍तान की यह ताजा एक्‍सक्राफ्ट पनडुब्‍बी कुछ उसी तरह से है जैसे वह पहले इटली से खरीदता आया है। इटली ने द्वितीय विश्‍वयुद्ध के समय इस तकनीक को ब्रिटिश नौसेना से खरीदा था। पाकिस्‍तान की अत्‍याधुनिक एक्‍सक्राफ्ट पनडुब्‍बी की तुलना अमेरिका के ड्राई कॉम्‍बैट सबमरीन से की जाती है। यह सबमरीन अमेरिका की नेवी सील करती है। पाकिस्‍तान के रक्षा उत्‍पादन डिवीजन के ईयर बुक में वर्ष 2016 में दिए डिटेल में केवल इतना कहा गया है कि इस पनडुब्‍बी को पाकिस्‍तान के अंदर डिजाइन और निर्माण किया गया है।

pak2

सैटलाइट से मिली तस्‍वीरों से पता चला है कि यह पाकिस्‍तानी पनडुब्‍बी बहुत कम पानी में जाती है। यह ज्‍यादातर वक्‍त पीएनएस नेवल बेस पर ही रहती है। इस पनडुब्‍बी की वर्ष 2016 में ही स्‍पष्‍ट तस्‍वीर सामने आई थी। इसी वजह से यह पनडुब्‍बी अभी किस हालत में है, इसके बारे में जानकारी नहीं है। इस पनडुब्‍बी के ऊपर टेंट लगाए गए हैं जो अक्‍सर हटाए जाते रहते हैं। माना जा रहा है कि पनडुब्‍बी की अभी मरम्‍मत चल रही है। हालांकि इस पनडुब्‍बी का सही-सही नाम क्‍या है और यह क्‍या करती है, अभी इसका खुलासा नहीं हो सका है।

र्ष 1971 के युद्ध में पाकिस्तान यह सोच रहा था की वह भारत को आसानी से हरा देगा। पाकिस्‍तान ने भारत से युद्ध की तैयारी बहुत पहले से ही करना शुरू कर दिया था। पाकिस्तान अपने मित्र अमेरिका से युद्ध के लिए नए-नए हथियार खरीद रहा था। उसने पीएनएस-71 नेवल सबमरीन डायब्लो लीज पर ले रखी थी। उस समय भारत के पास एक भी पनडुब्बी नहीं थी। पाकिस्तान को भारत के उस समय के सबसे बड़े युद्धपोत आईएनएस विक्रांत की ताकत का भी अहसास था। इसलिए उसने उसे डुबाने के लिए अपनी नेवल सबमरीन गाजी को भेजा था। भारतीय नौसेना ने पाकिस्तान को चकमा दिया और आईएनएस राजपूत को आईएनएस विक्रांत बनाकर पेश किया। जब पाकिस्तानी पनडुब्बी गाजी ने आईएनएस राजपूत पर विक्रांत समझकर हमाल किया तो आईएनएस राजपूत ने गाजी को तबाह कर दिया था।