कोरोना के चपेट में 26 नौसैनिक

तेजी से फैलते कोरोना वायरस ने अब भारतीय नौसेना को भी अपनी चपेट में ले लिया है। सूत्रों के मुताबिक मुंबई में वेस्टर्न नवल कमांड में 26 नौसैनिक कोरोना पॉजिटिव पाए गए हैं। कोरोना वायरस भारतीय सैन्य बल में इतनी बड़ी संख्या में पहली बार फैला है। ये सभी नौसैनिक आईएनएस आंग्रे पर तैनात थे। फिलहाल नेवी के अस्पताल में उनका इलाज चल रहा है।

अब नौसेना ने कॉन्टैक्ट ट्रेसिंग का एक बड़ा ऑपरेशन शुरू कर दिया है। ट्रैक किया जाएगा कि ये नौसैनिक किन-किन लोगों से मिले थे और उन सभी का टेस्ट किया जाएगा। ये मामला उस दौरान सामने आया है, जब दुनिया भर की नेवी में ये महामारी फैल रही है। अमेरिका में एक एयरक्राफ्ट करियर यूएसएस थेडोर रूजवेल्ट में करीब 500 कोरोना के मामले सामने आए हैं। वहीं फ्रांस नेवी को भी करोना ने अपनी चपेट में ले लिया है।

आईएनएस आंग्रे पर लॉकडाउन

सूत्रों के अनुसार संक्रमित नौसैनिकों में से 25 तो आईएनएस आंग्रे कॉम्प्लैक्स में ही रह रहे हैं, जबकि एक शख्स अपनी मां के साथ उनके घर में रह रहा है। सूत्रों ने बताया कि नौसैनिक की मां भी कोरोना पॉजिटिव पाई गई हैं। अब नेवी के रेसिडेंशल एकोमोडेशन में रह रहे सभी लोगों की टेस्टिंग की जा रही है। पूरे आईएनएस आंग्रे पर लॉकडाउन कर दिया गया है और इसे संक्रमण जोन घोषित कर दिया गया है।

अधिकतर को एक ही नौसैनिक से हुआ कोरोना

एक बयान में नेवी ने कहा कि इनमें से अधिकतर को एक ही नौसैनिक से संक्रमण फैला है, जो 7 अप्रैल को कोरोना पॉजिटिव पाया गया था। वह सभी आईएनएस आंग्रे के एक ही एकोमोडेशन में रहते थे। रक्षा मंत्रालय के अधिकारी और नवल मुख्यालय की ओर से सब पर नजर रखी जा रही है और बचाव के सभी तरीके इस्तेमाल किए जा रहे हैं, ताकि जिन नौसैनिकों में अभी कोरोना नहीं फैला है, वह बचे रहें।

सैन्य बल में अब तक मिला ये सबसे बड़ा मामला है। भारतीय सेना में भी इसके 8 मामले सामने आए थे। पिछले सप्ताह ही नेवी चीफ ऐडमिरल करमबीर सिंह ने एक वीडियो मैसेज में कहा था कि शिप और सबमरीन में रहने वाले नौसैनिक इस वायरस से बचकर रहें। उन्होंने कहा कि कोरोना वायरस महामारी जैसे हालात पहले कभी नहीं देखे गए। इसका असर भारत समेत पूरी दुनिया में फैला हुआ है।