दिल्‍ली-जहांगीरपुरी के एक ब्लॉक में मिले 42 पॉजिटिव केस

देश की राजधानी दिल्‍ली में कोरोना का कहर थम नहीं रहा है. दिल्ली हेल्थ डिपार्टमेंट की रिपोर्ट के मुताबिक बुधवार को राजधानी में कोरोना वायरस पॉजिटिव मरीजों की संख्‍या 2248 थी, लेकिन फिलहाल जहांगीरपुरी में ब्लॉक H से करीब 42 लोगों के पॉजिटिव पाए जाने की खबर आ रही है.

आपको बता दें कि बुधवार को राजधानी में 92 नए कोरोना पॉजिटिव केस सामने आए तो एक शख्स की मौत भी हुई. हालांकि अब तक दिल्ली में 48 लोगों की कोरोना के कारण मृत्यु हो चुकी है. जबकि 724 मरीज ठीक हुए हैं.

आईसीयू में कोरोना के सिर्फ 24 मरीज

इससे पहले दिल्ली के स्वास्थ्य मंत्री सत्येंद्र जैन ने सीएनएन से बातचीत में कहा कि दिल्ली में किसी भी ट्रेंड के बारे में पुख्ता तरीके से कोई बात नहीं कही जा सकती है. ऐसा कहने के लिए कोई आंकड़ा नहीं है. उन्होंने कहा कि अब विदेशों और मरकज से जुड़े कोरोना के मामले समाप्त हो चुके हैं. केंद्र सरकार से अनुमति के बाद फिर से रैपिड टेस्टिंग शुरू की जाएगी. उन्होंने कहा कि दुनिया की तुलना में दिल्ली और देश भर में रुझान यह है कि कोरोना के मरीजों की गंभीर रोगियों की संख्या कम है. दिल्ली में 1476 मामलों में से आईसीयू में कोरोना के सिर्फ 24 मरीज ही दाखिल कराए गए हैं.

उन्होंने कहा कि नॉन सिंप्टोमेटिक और मामूली लक्षण वाले मरीजों को कोविड-19 को समर्पित हॉस्पिटल में दाखिल नहीं कराया जा रहा है. 45 दिन के बच्चे के कोरोना पॉजिटिव पाए जाने के सवाल पर उन्होंने कहा कि इसकी जांच कराई जाएगी.

इन अस्पतालों में कोविड-19 के मरीजों का हो रहा इलाज

दिल्ली के एक हॉस्पिटल में बीते मंगलवार को 92 कोरोना पॉजिटिव के मामले सामने आने के बारे में सत्येंद्र जैन ने कहा कि यह एक अस्पताल का मामला है. उन्होंने यह जानकारी देते हुए कहा कि दिल्ली में कोविड-19 के इलाज के लिए आरजीएसएसएच, एलएनजेपी, सफदरजंग, लेडी हार्डिंग, एम्स, आरएमएल, गंगाराम, साकेत स्थित मैक्स पूरी तरह समर्पित हैं. तीन स्वास्थ्य केंद्र कोविड-19 के लिए समर्पित हैं.

स्वास्थ्य मंत्री ने कहा कि कोरोना के मामूली लक्षणों वाले रोगियों से निपटने के लिए कोविड 19 देखभाल केंद्रों में इलाज किया जा रहा है. हर मरीज को आईसीयू में दाखिल कराने की दरकार नहीं है. स्वास्थ्य मंत्री ने जानकारी ​देते हुए कहा कि दिल्ली में कोरोना के सामने आए कुल मामलों में से 1464 केस 50 वर्ष से कम आयु के हैं. यहां 50-59 वर्ष से कम आयु के 359 मामले और 60 वर्ष से ज्यादा के 425 मामले अब तक सामने आए हैं. उन्होंने कहा कि कोरोना युवाओं को भी अपना शिकार बना रहा है. कोरोना वायरस से संक्रमित 50 साल से कम उम्र के व्यक्ति की मौत का आधे प्रतिशत से भी कम है. इनमें से 10 में से सिर्फ को एक कोविड था.