फीस माफ़ी की मांग के लिए पेरेंट्स एसोसिएशन चलाएगा आंदोलन

रांची। झारखंड पेरेंट्स एसोसिएशन राज्य सरकार की ओर से लॉकडाउन के दौरान स्कूल फीस मामले में स्पष्ट आदेश जारी नहीं किए जाने के खिलाफ चरणबद्ध आंदोलन चलाएगा। इसे लेकर तैयारी पूरी कर ली गई। 30 जून तक अगर सरकार संघ की मांगों को नहीं मानती है तो संघ तीन जुलाई से हंगर स्ट्राइक करेगा जिसमें देश के दर्जनों राज्यों के अभिभावक, एसोसिएशन के पदाधिकारी शामिल होंगे।

यह जानकारी बुधवार को प्रेस वार्ता में झारखंड पेरेंट्स एसोसिएशन के अध्यक्ष अजय राय ने दी। उन्होंने बताया कि संघ अपनी मांगों को लेकर 26 जून को सांकेतिक उपवास एवं सोशल मीडिया द्वारा झारखंड सरकार का ध्यान आकर्षण कराएगा। 27 जून को जिला शिक्षा विभाग के समक्ष संघ के पांच प्रतिनिधियों और अभिभावकों द्वारा सांकेतिक धरना व मांग पत्र सौंपा जाएगा।

उन्होंने बताया कि 28 जून को प्रदेश इकाई द्वारा मुख्यमंत्री और शिक्षा मंत्री से मुलाकात कर ज्ञापन सौंपा जाएगा। 29 जून को राजभवन और सभी जिलों के जिला शिक्षा विभाग के समक्ष आमरण अनशन आंदोलन किया जाएगा। इसके अलावा 30 जून को ट्विटर अभियान, टैग के तहत राज्य एवं केंद्र सरकार को ट्वीट के जरिए ध्यान आकर्षित कराया जाएगा।

उन्होंने कहा कि हमारी मांग है कि लॉकडाउन के दौरान तीन महीनों की फीस माफ की जाए। इसे लेकर संघ के सदस्यों ने मुख्यमंत्री, मंत्री सहित अन्य लोगों से वार्ता की। लेकिन अभी तक इस दिशा में कोई पहल नहीं हुई है। इसी को लेकर आगे की रणनीति तैयार की गई है।

प्राइवेट स्कूलों के मनमानी के खिलाफ पूरे देश के अभिभावक आक्रोशित हैं और इसको लेकर सभी राज्यों में आंदोलन चलाए जा रहे हैं। तीन जुलाई से हंगर स्ट्राइक किया जाएगा। जिसमें देश के दर्जनों राज्यों के अभिभावक और एसोसिएशन के पदाधिकारी शामिल होंगे। प्रेस वार्ता में अभय कुमार पांडेय, राजेश साहू, आलोक कुमार झा, राजेश शर्मा आदि मौजूद थे।