रामदेव बाबा के खिलाफ शिकायत दर्ज करवाई

एक ओर जहां देश में कोरोना की दवा को लेकर तमाम चर्चाएं चल रही हैं। वहीं इसी बीच बाबा रामदेव ने इसकी दवा कोरोनिल (coronil)को बनाने का दावा कर सभी को चौंका दिया है, लेकिन अब उनका यही दावा उन्हें लगातार मुश्किलों में डालता नजर आ रहा है। दरअसल पतंजलि (patanjali) की ओर से मंगलवार को दवा लॉन्च करने के बाद से ही बाबा रामदेव विवादों के घेरे में घिरते नजर आने लगे हैं।

मंगलवार को दवा लॉन्च होने के साथ ही अगले पांच घंटे बाद बाबा रामदेव की ओर से प्रचारित करने वाली दवा कोरोनिल की प्रचार पर रोक लगा दी गई। केन्द्र सरकार की ओर से दवा पर रोक लगाने के साथ यह कहा गया है कि बिना अनुमति इलाज का दावा करना गलत है। इसके लिए रिसर्च का ब्यौरा देना होगा। वहीं बाबा रामदेव का कहना है कि उन्होंने इस दवा का ट्रायल किया है।

जयपुर गांधी नगर थाने में परिवाद दर्ज की गई

जहां एक ओर दवा लॉन्च होने के बाद ही बाबा रामदेव की मुश्किल मंगलवार को ही बढ़ गई। वहीं इसी बीच जयपुर में भी उनके खिलाफ गांधी नगर थाने में परिवाद दर्ज की गई है। परिवाद जयपुर के डॉ. संजीव गुप्ता ने लगाई है। उनका कहना है कि बाबा रामदेव कोरोना की दवा बनाने का दावा करके लोगों को गुमराह कर रहे हैं।

निम्स के ट्रायल पर भी उठे सवाल

जहां इस संबंध में बाबा रामदेव के खिलाफ परिवाद दर्ज की गई है। वहीं पतंजलि के साथ जयपुर की संस्था नेशनल इंस्टिट्यूट ऑफ मेडिकल साइंस (NIMS) पर भी सवाल उठने लगे हैं। निम्स और बाबा रामदेव की ओर से यह दावा किया गया था कि उन्होंने इस दवा का ट्रायल किया है, लेकिन आयुष मंत्रालय ने इसे लेकर सवाल उठाए हैं। जानकारी के अनुसार मंत्रालय अब इस संस्था के भी ट्रायल की जांच करेगा और संस्था को ट्रायल से जुड़ा ब्यौरा पेश करना होगा।