जनता कर्फ्यू के मद्देनजर इंडियन रेलवे ने बड़ा ऐलान किया है। इंडियन रेलवे ने 21 मार्च की आधी रात (12 बजे) से 22 मार्च रात 10 बज तक खुलने वाली सभी पैसेंजर ट्रेन को रद्द करने का ऐलान किया है। हालांकि जो ट्रेन सुबह सात बजे खुल चुकी होगी वह अपने गंतव्य स्थान तक बिना रुकावट के पहुंचेगी। पीएम मोदी ने रविवार (22 मार्च) को जनता कर्फ्यू का आह्वान किया है। इसमें लोगों से सुबह सात बजे से रात के नौ बजे तक बिना जरूरी घर से नहीं निकलने की अपील की गई है।

कैटरिंग की सुविधा अगले आदेश तक बंद

इसके अलावा इंडियन रेलवे कैटरिंग ऐंड टूरिज्म कॉर्पोरेशन लिमिटेड (IRCTC) ने ऐलान किया है कि मेल और एक्सप्रेस ट्रेन में कैटरिंग की सुविधा अगले आदेश तक बंद रहेगी। आईआरसीटीसी के मुताबिक, फूड प्लाजा, रिफ्रेशमेंट रूम, जन आहार और सेल किचन भी बंद रहेगी। इससे पहले वेस्टर्न रेलवे ने ऐलान किया था कि ट्रेन में कंबल नहीं मिलेगी क्योंकि इसकी रोजाना सफाई नहीं होती है। इसलिए यात्रियों से अपने लिए कंबल घर से लाने की अपील की गई थी।

90 और ट्रेनें रद्द की गईं

इधर यात्रियों की कम संख्या और कोरोना वायरस महामारी के मद्देनजर 20 से 31 मार्च के बीच चलने वाली 90 ट्रेनें रद्द कर दी हैं। सूत्रों ने शुक्रवार को यह जानकारी दी। इसके साथ ही रद्द की गईं ट्रेनों की संख्या बढ़कर 245 हो गई है। इससे पहले गुरुवार को रेलवे ने 84 ट्रेंने रद्द करते हुए कहा था कि कोरोना वायरस के चलते 155 ट्रेनें रद्द की जा चुकी हैं।

कैंसल चार्ज नहीं लगेगा

सूत्रों ने कहा, ‘जिन लोगों ने इन ट्रेनों में टिकट बुक कराए थे, उन्हें व्यक्तिगत रूप से इसकी जानकारी दी जा रही है। इन ट्रेनों में टिकट रद्द होने का कोई शुल्क नहीं लिया जाएगा। यात्रियों को पूरा पैसा वापस मिलेगा।’ उन्होंने कहा, “सामाजिक दूरी सुनिश्चित करना जरूरी है। हम केवल कम यात्रियों वाली ट्रेनें ही रद्द कर रहे हैं।