कोरोना की दहशत देश में किस तरह है इस बात का अंदाजा इस बात से लगाया जा सकता है कि अब लोग इसके नाम से भी भागने लगे हैं. दिल्ली में गुरुवार को लोक नायक जय प्रकाश अस्पताल से कोरोना के 6 संदिग्‍ध मरीज भाग गए. बताया जा रहा है कि कोरोना के लक्षण मिलने के बाद इन सभी को अस्पताल के आइसोलेशन वार्ड में रखा गया था. अब पुलिस इन सभी की तलाश कर रही है. गौरतलब है कि इससे कुछ देर पहले ही दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने ऐलान किया था कि ऐसा करने वालों के खिलाफ मामला दर्ज कर उन्हें गिरफ्तार किया जाएगा.

रेस्‍त्रां भी किए बंद

राजधानी के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने गुरुवार को प्रेस कॉन्फ्रेंस कर कहा था कि दिल्ली के सभी रेस्‍त्रां 31 मार्च तक के लिए बंद रहेंगे. साथ ही उन्होंने बताया था इस दौरान लापरवाही बरतने वालों के खिलाफ कार्रवाई की जाएगी और उन्हें गिरफ्तार भी किया जाएगा. इसके साथ ही केजरीवाल ने कई अन्य बातों का भी ऐलान किया और लोगों से कोरोना वायरस को लेकर सतर्कता बरतने की भी अपील की.

20 से ज्‍यादा लोग नहीं हो सकेंगे इकट्ठा

इस दौरान केजरीवाल ने कहा कि पहले दिल्ली में 50 से ज्यादा लोगों के एक जगह पर जमा होने पर रोक थी लेकिन अब खतरा बढ़ता हुआ देख कर इस संख्या को घटा दिया गया है. अब 20 से ज्यादा लोग एक जगह पर जमा नहीं हो सकेंगे. उन्होंने स्पष्ट किया कि किसी भी तरह के राजनीतिक और गैर राजनीतिक किसी भी तरह के आयोजन पर यह नियम लागू होगा.

लोगों को किया जा रहा चिन्हित

इसके साथ ही सीएम ने बताया कि विदेशों से दिल्ली पहुंच रहे लोगों को चिन्हित किया जा रहा है और उनके हाथों पर स्टैंप लगाया जा रहा है. साथ ही उन्हें कुछ दिनों के लिए घरों में ही रहने को कहा गया है. उन्होंने बताया कि कुछ मामलों में देखा जा रहा है कि विदेश से आए लोग अपने घरों से बाहर निकल रहे हैं जो खतरनाक है. यदि ऐसा देखा जाता है तो सरकार उनके खिलाफ सख्त कदम उठाएगी और गिरफ्तारी के साथ ही उन पर मामला भी दर्ज किया जाएगा.

युवक ने की थी आत्महत्या

इससे पहले बुधवार को कोरोना संदिग्‍ध एक युवक ने सफदरजंग अस्पताल की इमारत की सातवीं मंजिल से कूद कर आत्महत्या कर ली. युवक का नाम चरणजीत सिंह था. वह बुधवार को ही सिडनी से एयरइंडिया की फ्लाइट से लौटा था और एयरपोर्ट पर कोरोना संदिग्‍ध पाए जाने पर उसे सफदरजंग