लॉकडाउन में फ्री इंटरनेट जैसे लिंक को भूलकर भी न करें क्लिक, हैकिंग आंकड़ा बढ़ा

कोरोना महामारी के दौरान उत्तर भारत में साइबर हैकिंग 10 गुना तक बढ़ गई है. लॉकडाउन के दौरान सबसे ज्यादा फेसबुक प्रोफाइल हैकिंग के मामले सामने आ रहे हैं. दिल्ली पुलिस के साइबर क्राइम एडवाइजर और साइबर आर्मी के हेड किसलय चौधरी बताते हैं कि लॉकडाउन में हैकिंग का आंकड़ा तेजी से बढ़ा है. उत्तर भारत के 13 राज्यों में आज कल 150 से 200 मामले रोजाना आ रहे हैं. ये सभी प्राथमिक रिपोर्ट हैं जो पुलिस में आई हैं, जबकि पहले यह आंकड़ा 15 से 21 मामलों का होता था. ट्विटर, इंस्टाग्राम के बजाय फेसबुक अकाउंट को हैक करना ज्यादा सरल है. साथ ही लोग उसके मैसेंजर पर जल्दी रिस्पांड भी करते हैं.

गाजियाबाद के एसपी और एसआई का प्रोफाइल भी हुआ हैक

हाल ही में यूपी के गाजियाबाद के पुलिस अधीक्षक (एसपी) और सब-इंस्पेक्टर (एसआई) का फेसबुक प्रोफाइल हैक हुआ था. इस दौरान दोनों के प्रोफाइल से उनके दोस्तों और सगे संबंधियों को पैसे मांगने के मैसेज भेजे गए थे. जिसकी शिकायत पुलिस में आई. इतना ही नहीं सामान्य लोगों के फेसबुक प्रोफाइल हैक होने के मामले सबसे ज्यादा आ रहे हैं. इस दौरान कई प्रोफाइल से पैसे मांगने के साथ ही ठगी के भी मामले आये हैं.

लॉकडाउन के कारण जल्दी पकड़ में आ रहे अपराधी

हालांकि, लॉकडाउन होने के कारण पुलिस का अपराधियों तक पहुंचना आसान हो गया है. इन हैकर्स का काम आईपी एड्रेस मैनेज करना है. लॉकडाउन में आवागमन बंद होने और हैकर्स के घर पर ही रहने से अपराधियों की डिटेल्स निकालकर पुलिस उन तक पहुंच जाती है.

लॉकडाउन में फ्री इंटरनेट जैसे लिंक को भूलकर भी न करें क्लिक

किसलय कहते हैं कि अगर आपको इस दौरान हैकिंग से बचना है तो भूलकर भी किसी ऐसी लिंक पर क्लिक न करें जिसके बारे में आप अनजान हों. वहीं किसी रिश्तेदार की तरफ से मैसेंजर में भी आये लिंक को न छुएं. साथ ही ठगी से बचने के लिए भी सचेत रहें. फिलहाल कोरोनावायरस, लॉकडाउन में फ्री इंटरनेट पाएं, रीचार्ज पाएं जैसे मैसेज लिंक भी आ रहे हैं. इन पर क्लिक न करें.