समाजवादी पार्टी की मान्यता खतरे में,सुप्रीम कोर्ट के दिशा निर्देश का उल्लघंन

Hdnlive|समाजवादी पार्टी (Samajwadi party)की मान्यता खतरे में पड़ सकती है. पार्टी की मान्यता समाप्त करने के लिए सुप्रीम कोर्ट(Supreme court) में एक जनहित याचिका दाखिल की गई है. ये याचिका बीजेपी नेता और सुप्रीम कोर्ट के वकील अश्वनी कुमार उपाध्याय ने दायर की है. याचिका में कहा गया है कि समाजवादी पार्टी ने कैराना में एक गैंगस्टर नाहिद हसन(Nahid Khan) को टिकट देकर सुप्रीम कोर्ट के दिशा निर्देश का उल्लघंन किया है. बता दें कि फरवरी 2021 में यूपी पुलिस ने नाहिद हसन, उनकी मां तबस्सुम और 38 अन्य लोगों पर गैंगस्टर एक्ट के तहत कार्रवाई की थी. इसके बाद से वह फरार चल रहे थे.

शनिवार को गैंगस्टर एक्ट में फरार चल रहे सपा विधायक नासिर हसन ने कैराना कोर्ट में सरेंडर किया था. नाहिद की मां तबस्सुम इसी क्षेत्र से सांसद रह चुकी हैं. पिछले साल जनवरी में हसन ने कोर्ट में सरेंडर किया था. इसके बाद वो करीब एक महीने तक जेल में रहे थे. बाद में उन्हें जमानत मिल गई थी.

फिर दर्ज हुआ केस
इस साल जनवरी में यूपी पुलिस ने नाहिद हसन, उनकी मां तबस्सुम और 38 अन्य लोगों के खिलाफ गैंगस्टर एक्ट के तहत कार्रवाई की थी. इसके बाद वो एक बार फिर फरार हो गए. लेकिन शनिवार को सरेंडर कर हर किसी को हैरान कर दिया.

योगी ने किया था हमला
दो दिन पहले मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने अखिलेश यादव का नाम लिए बिना उन पर हमला किया था. उन्होंने कहा था कि सपा ने कैराना और मुजफ्फरनगर, बुलंदशहर और लोनी में पलायन और माफियाओं को टिकट दिया है, ये उनकी मंशा को दिखाता है. उन्होंने कहा कि पेशेवर हिस्ट्रीशीटर और माफियाओं को टिकट देकर सत्ता में लाना और सत्ता को शोषण का प्रतीक बनान यही इनके टिकट में झलकता है.