दिल्ली विधानसभा चुनाव (Delhi Assembly Election 2020) के लिए नामांकन के आखिरी दिन मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल (Arvind Kejriwal) ने घंटों इंतजार के बाद नामांकन पत्र दाखिल किया. नामांकन में देरी को लेकर सोशल मीडिया में उठ रहे सवालों के मामले में चुनाव आयोग (Election Commission) ने सफाई दी है.

चुनाव आयोग ने कहा कि प्रोसेस में जानबूझ कर देरी नहीं की गई. नामांकन के आखिरी दिन ज्यादा भीड़ होने के कारण देरी हुई. कानून के तहत प्रक्रिया पूरी हुई.

6 घंटे लाइन में लगने के बाद केजरीवाल ने दाखिल किया नामांकन

दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने आम आदमी पार्टी के कैंडिडेट के रूप में अपना नामांकन पत्र दाखिल कर दिया है. मंगलवार दोपहर साढ़े 12 बजे से रिटर्निंग अफसर के दफ्तर में नामांकन दाखिल (Nomination File) करने का इंतजार कर रहे केजरीवाल ने आखिरकार अपना पर्चा भर दिया है. केजरीवाल को नामांकन भरने में छह घंटे का समय लगा.

अपनी बारी का इंतजार कर रहे केजरीवाल को मिला था टोकन नंबर-45

नामांकन दाखिल करने के दौरान केजरीवाल के माता-पिता वहां मौजूद थे. नामांकन दाखिल करने के आखिरी दिन केजरीवाल मंगलवार दोपहर साढ़े बारह बजे के लगभग रिटर्निंग ऑफिसर के दफ्तर जामनगर हाउस पहुंचे थे. केजरीवाल ने ट्वीट कर बताया कि वो नामांकन दाखिल करने के लिए इंतजार कर रहे हैं, उन्हें टोकन नंबर 45 दिया गया है. इसके चंद घंटे बाद फिर उन्होंने ट्वीट कर कहा कि वो अभी भी इंतजार कर रहे हैं, लेकिन उन्हें इसमें मजा आ रहा है. दरअसल केजरीवाल से पहले बड़ी संख्या में निर्दलीय उम्मीदवार भी अपना नामांकन दाखिल करने पहुंचे थे. शाहीन बाग में जो हो रहा है वो सरकार के प्रति मुसलमानों का पिछले 5 सालों का डर है: नजीब जंग