बदलते मौसम में बड़े-बड़ों में जहां सर्दी-जुकाम की शिकायत होने लगती है, वहीं बच्चों यह समस्या और भी जटिल हो जाती है। छोटे बच्चों की इम्युनिटी बढ़ाने के लिए बहुत जरूरी है कि उन्हें जन्म के 36 घंटे के भीतर मां का दूध जरूर पिलाया जाए। इसमें कोलेस्ट्रम नामक एक तत्व होता है, जो जीवन भर बच्चे की रोग प्रतिरोधक क्षमता को मजबूत बनाता है। इसके अलावा उन्हें कम से कम 6 माह तक मां का दूध जरूर पिलाना चाहिए।

बच्चों को सभी टीके सही समय पर लगाए जाएं।

बच्चों में सभी तरह के मौसम झेलने की आदत विकसित करें। हर समय एसी, हीटर का इस्तेमाल या कमरे को बंद न रखें। घर से बाहर खेलने जाने दें। इससे शरीर की संक्रमण से लड़ने की क्षमता विकसित होती है। मौसम बदलने पर बच्चों में सामान्य सर्दी व जुकाम होना शरीर में इम्यून सिस्टम के सक्रिय होने का संकेत है। बच्चों में हल्का सर्दी-जुकाम होते ही उन्हें दवाएं देना शुरू न करें। तीन-चार दिनों के बाद भी समस्या अगर दूर न हो, तभी डॉक्टर की सलाह से दवा दें।

बच्चे को शुरू से ही वही खिलाएं, जो परिवार के अन्य सदस्य खाते हैं। इससे उन्हें सभी पोषक तत्व मिलेंगे। बच्चों के रोजाना भोजन में प्रोटीन और कैल्शियम से भरपूर खाद्य पदार्थ जैसे-दूध, दालें, अंडा, मछली और सूखे मेवे दें। उन्हें दालें जरूर खिलानी चाहिए। यह उनकी इम्यूनिटी बढ़ाने में सबसे अहम रोल अदा करती हैं।

फोर्टिस हॉस्पिटल की डाइटीशियन डॉ. मानसी चौधरी से हमने बदलते मौसम में बच्चों की इम्युनिटी पर बात की। नीचे दिए वीडियो में उनसे जानिए बच्चों की इम्युनिटी बढ़ाने के टिप्स