PM मोदी के बयान पर मायावती का पलटवार : हमारा गठबंधन मजबूत है और पीएम मोदी इसे पचा नहीं पा रहे हैं

0
16

पीएम मोदी ने कहा था कि सपा ने मायावती को धोखा दिया है. पीएम के इस दावे को मायावती ने खारिज किया और कहा कि सपा-बसपा-आरएलडी का गठबंधन मजबूत है और पीएम मोदी इससे परेशानी में है, इसीलिए सपा-बसपा में दूरियां पैदा करने की कोशिश कर रहे हैं. मायावती ने कहा कि यह गठबंधन भविष्य के लिए भी है.

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने पांचवें चरण के मतदान से ठीक पहले उत्तर प्रदेश की सियासत को बहस का नया मुद्दा दे दिया है. पीएम मोदी ने समाजवादी पार्टी और बहुजन समाज पार्टी के गठबंधन पर कहा है कि सपा ने मायावती को धोखा दिया है. इस बयान पर बसपा अध्यक्ष मायावती ने पलटवार किया और कहा कि पीएम मोदी बांटने और राज करने की कोशिश कर रहे हैं.

लखनऊ में रविवार को मायावती ने सपा और आरएलडी से गठबंधन पर कहा कि हमारा गठबंधन मजबूत है और पीएम मोदी इसे पचा नहीं पा रहे हैं. मायावती ने कहा कि पीएम मोदी बांटो और राज करो की नीति अपनाने की कोशिश कर रहे हैं.

कांग्रेस से समझौते के दावे पर भी मायावती ने रुख स्पष्ट किया. मायावती ने कहा कि कांग्रेस के साथ हमारा कोई गठबंधन नहीं है और यह गठबंधन बीजेपी को हराने के लिए है. इसी के चलते बीजेपी और आरएसएस वादी ताकतों को कमजोर करने के लिए यूपी में अमेठी-रायबरेली सीट कांग्रेस के लिए छोड़ी गई हैं. ताकि कांग्रेस के दोनों बड़े नेता (सोनिया गांधी व राहुल गांधी) फिर से चुनाव लड़ें और इन दोनों सीटों में ही उलझकर न रह जाएं.

पीएम मोदी का बयान

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने शनिवार को यूपी के प्रतापगढ़ में एक रैली को संबोधित करते हुए कहा था कि समाजवादी पार्टी ने बहन जी (मायावती) को धोखा दिया है. पीएम ने कहा, ‘कांग्रेस के नेता खुशी-खुशी समाजवादी पार्टी की रैलियों में मंच साझा कर रहे हैं. मायावती खुलेआम कांग्रेस की आलोचना करती हैं, कांग्रेस को कोसती हैं. वहीं समाजवादी पार्टी कांग्रेस पर नरमी दिखाती है. यूपी में भाजपा को हराने के लिए दो धुर विरोधी दल गले मिले. इनकी दोस्ती में तो अब दम नहीं दिख रहा है. यहां पर समाजवादी पार्टी ने बहन जी को ऐसा धोखा दिया है, जो उन्हें समझ में नहीं आ रहा है’.

पीएम मोदी के इसी दावे को मायावती ने खारिज किया है और कहा है कि सपा-बसपा-आरएलडी का गठबंधन मजबूत है और पीएम मोदी इससे परेशानी में है, इसीलिए सपा-बसपा में दूरियां पैदा करने की कोशिश कर रहे हैं. मायावती ने कहा कि यह गठबंधन भविष्य के लिए भी है.