LIC की न्यू जीवन आनंद पॉलिसी ?

LIC की कुछ स्कीम ऐसी हैं जो बचत के लिए हैं तो वहीं, कुछ स्कीम सुरक्षा के लिए है. लेकिन इन दोनों का फायदा आप एक ही स्कीम के जरिए उठा सकते हैं. LIC की न्यू जीवन आनंद पॉलिसी आपको न सिर्फ बचत का अवसर देती है, बल्कि सुरक्षा भी प्रदान करती है. स्कीम के तहत आपको बोनस भी मिलते हैं. इस योजना के तहत रिस्क कवर, पॉलिसी अवधि के बाद भी जारी रहता है.

स्कीम की पूरी डिटेल

  • अगर आपकी उम्र 18 साल हो गई है तो LIC की न्यू जीवन स्कीम ले सकते हैं. वहीं, स्कीम लेने के लिए आपकी उम्र 50 साल से ज्यादा नहीं होनी चाहिए.
  • स्कीम के तहत कम से कम 1 लाख रुपये का सम अश्योर्ड लेना जरूरी है. वहीं, इसकी अधिकतम सीमा नहीं है. यानी आप जितना चाहें, उतना तक सम अश्योर्ड ले सकते हैं.
  • न्यू जीवन आनंद प्लान के लिए पॉलिसी की अवधि 15 से 35 साल है. LIC की न्यू जीवन आनंद पॉलिसी को आप ऑफलाइन के साथ ऑनलाइन भी खरीद सकते है.
  • पॉलिसी के लिए सालाना, छमाही, तिमाही और मासिक आधार पर प्रीमियम का भुगतान किया जा सकता है. इसकी खास बात यह है कि इस पॉलिसी को खरीदने के 3 साल बाद आप अपनी पॉलिसी से कर्ज ले सकते हैं.
  • मैच्योरिटी पर मिलेगा लाभ ,सम एश्योर्ड के साथ सिंपल रिवर्सनरी बोनस और फाइनल एडिशनल बोनस.

मेच्योरिटी पर कितना लाभ-

सम अश्योर्ड + सिंपल रिवर्सनरी बोनस + फाइनल एडिशनल बोनस

5 लाख + 5.04 लाख + 10 हजार = 10.14 लाख

यानी 21 साल पूरे होने पर अगर पॉलिसी धारक जीवित रहता है तो उसे 10 लाख से ज्यादा मिल जाएगा.

अगर मेच्योरिटी पर डेथ हो जाए-नॉमिनी को सम अश्योर्ड यानी 5 लाख रुपये मिलेंगे. अगर पॉलिसी के बीच में डेथ हो तो-यदि किसी कारणवश पॉलिसीधारक की मौत पॉलिसी के बीच में ही हो जाती है तो उनके द्वारा नामित नॉमिनी को जो बीमा राशि दी जाएगी जो बीमा राशि का 125 फीसदी होगा. इसके साथ ही बोनस और अंतिम बोनस भी मिलता है.

अगर पॉलिसी में 17 साल प्रीमियम भरने के बाद डेथ हो तो इन तीनों में जो ज्यादा होगा, वही नॉमिनी को मिलेगा.

  1. सम अश्योर्ड का 125% = 5 लाख का 125% = 6,25,000
  2. सालाना प्रीमियम का 10 गुना = (27010 का 10 गुना) = 3,02,730
  3. मृत्यु तक भरे हुए प्रीमियम का 105% = (27010 * 17) का 105% = 4,82,128

इसमें पहले ऑप्शन में रकम ज्यादा है तो नॉमिनी को वहीं रकम मिलेगा.

टैक्स बेनिफिट्स-आयकर अधिनियम की धारा 80C के तहत प्रीमियम भुगतान के लिए टैक्स बेनिफिट भी मिलता है. मैच्युरिटी या मृत्यु के वक्त मिलने वाली राशि पर भी कोई टैक्स नहीं देना होता है.