स्वास्थ्य बीमा के नाम पर रिटायर्ड निगमकर्मियों से हुआ धोखाः आप

नई दिल्ली। आम आदमी पार्टी (AAP) ने भाजपा शासित एमसीडी (MCD) पर रिटायर्ड निगमकर्मियों के साथ कैशलेस स्वास्थ्य बीमा के नाम पर धोखा देने का आरोप लगाया है। इसके चलते 34 हजार से अधिक कर्मियों को इलाज के लिए भटकना पड़ रहा है। आप नेता दुर्गेश पाठक का आरोप है कि भाजपा शासित एमसीडी ने रिटायर्ड कर्मियों से स्वास्थ्य बीमा के नाम पर 221 करोड़ रुपये लिए मगर निजी अस्पतालों को पैसे का भुगतान नहीं किया।

दुर्गेश पाठक ने बताया कि एमसीडी ने ग्रुप ए के सेवानिवृत्त कर्मचारियों से 1.20 लाख, बी ग्रेड से 78 हजार, सी से 54 हजार और ग्रुप डी से 30 हजार रुपये लिए थे। ताकि वे निजी अस्पतालों में इलाज करा सकेंगे। मगर पैसे देने के बाद भी इन कर्मियों को चिकित्सकीय सुविधा नहीं मिल पा रही है। उन्होंने भाजपा शासित एमसीडी से अपील की कि वो बुजुर्गों से लिए गए 221 करोड़ रुपए से निजि अस्पतालों का लंबित भुगतान करे, ताकि उन्हें इलाज में दिक्कत न आए।

पार्टी मुख्यालय में मीडिया से बातचीत में दुर्गेश पाठक ने कहा कि भाजपा शासित नगर निगम के लगभग 34000 सेवानिवृत्त ऐसे कर्मचारी हैं, जिन्होंने रिटायरमेंट के समय नगर निगम से पॉलिसी ली थी। जिसके द्वारा वह तमाम सेवानिवृत्त कर्मचारी बीमारी के समय मुफ्त में दिल्ली के अस्पतालों में अपना इलाज करा सकें और उन्हें अस्पताल के धक्के न खाने पड़े। परंतु आज भारतीय जनता पार्टी के भ्रष्टाचार के कारण वह तमाम 34000 कर्मचारी दर-दर की ठोकरें खाने को मजबूर हो गए हैं।