आतंकी ने डोभाल के कार्यालय की रेकी की, पाक के आकाओं को वीडियो भेजा

नई दिल्ली/जम्मू (hdnlive)। जैश-ए-मोहम्मद (Jaish-e-Mohammed) के गिरफ्तार किए गए आतंकवादी के फोन से राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार (NSA) अजीत डोभाल के कार्यालय और राष्ट्रीय राजधानी में कई अन्य प्रमुख स्थानों की वीडियो क्लिप बरामद की गई। इसके मद्दनेजर अतिरिक्त सुरक्षा उपायों को बढ़ा दिया गया है। मामले से संबंधित जम्मू पुलिस के एक वरिष्ठ अधिकारी ने बताया, जम्मू पुलिस ने 6 फरवरी को हिदायत-उल्लामलिक नाम के एक व्यक्ति को गिरफ्तार किया। पूछताछ के दौरान उसने कबूल किया कि उसने डोभाल के कार्यालय और कई अन्य स्थानों की रेकी की है और उसे पाकिस्तान में जेईएम के कमांडरों को भेजा है।

अधिकारी ने कहा कि शोपियां निवासी मलिक को गिरफ्तार किया गया और उसके खिलाफ जम्मू में गंगयाल पुलिस स्टेशन में गैरकानूनी गतिविधि रोकथाम अधिनियम की कई धाराओं के तहत मामला दर्ज किया गया। अधिकारी ने कहा कि मलिक एक जैश मोर्चा समूह, लश्कर-ए-मुस्तफा का प्रमुख है और उसे अनंतनाग से गिरफ्तार किया गया था। पुलिस ने उसके कब्जे से हथियार और गोला-बारूद भी बरामद किया। अधिकारी ने आगे बताया कि पूछताछ के दौरान मलिक ने खुलासा किया कि उसने पिछले साल मई में दिल्ली के लिए उड़ान भरी थी और डोभाल के कार्यालय का एक वीडियो रिकॉर्ड किया और फिर उसे अपने पाकिस्तानी कमांडर जिसका नाम डॉक्टर है को व्हाट्सएप के माध्यम से भेज दिया।

मलिक ने पूछताछ के दौरान यह भी स्वीकार किया कि उसने समीर अहमद डार के साथ 2019 के मध्य में सांबा सेक्टर सीमा क्षेत्र तक रेकी की थी, जिसे पिछले साल जनवरी में एनआईए ने 2019 के पुलवामा हमले में शामिल होने के आरोप में गिरफ्तार किया था। दिल्ली में अधिकारियों ने नाम न उजागर करने की शर्त पर कहा कि गिरफ्तार आतंकवादी के खुलासे के बाद सुरक्षा को बढ़ा दिया गया है। डोभाल 2016 के उरी सर्जिकल स्ट्राइक और बालाकोट हवाई हमले के बाद से आतंकियों के निशाने पर हैं। उन्होंने 1994 में गिरफ्तारी के बाद जेईएम प्रमुख मसूद अजहर से भी पूछताछ की थी और आईसी-814 अपहरण के मद्देनजर अजहर को कंधार ले जाने वाले व्यक्तियों में से भी एक थे।