13 साल के स्टूडेंट से लेडी टीचर ने रचाई शादी, 6 दिन बाद छोड़ा

जालंधर (hdnlive)। 13 साल के स्टूडेंट से शादी रचाने का अजीबोगरीब मामला सामने आया है। लेडी ​टीचर ने जबरदस्ती स्टूडेंट से घर पर शादी रचाई। सुहागरात भी मनाई। वहीं शादी के 6 दिन बाद मामला पुलिस में पहुंचाने के बाद स्टूडेंट को छोड़ा। शहर के एक बस्ती बावा खेल इलाके में हुई इस घटना की खबर फैलते ही लोगों में खलबली मच गई। यह मामला जालंधर है। बताया जा रहा है कि लेडी टीचर ने अंधविश्वास के चलते ऐसा क‍िया। ऐसा करने के पीछे टीचर का ये मानना है कि उसका मांगलिक दोष दूर हो जाएगा। स्टूडेंट के घर वालों ने लेडी टीचर के खिलाफ केस दर्ज किया है।

जानकारी के अनुसार टीचर ने मांगलिक दोष को दूर करने के इरादे से 13 साल के स्टूडेंट से जबरन शादी रचाई। हालांकि यह पूरी तरह से प्रतिकात्मक था। टीचर ने अपने स्टूडेंट को ट्यूशन पढ़ाने का लालच देकर घर में रोके रखा। इस दौरान पंडित के बताए अनुसार शादी की। जबरन घर में रोके रखकर शादी की सभी रस्में पूरी की गईं। बाकायदा हल्दी-मेहंदी रचाई गई और सुहागरात का नाटक भी रचा गया, उसके बाद पंडित के कहने पर चूड़ियां तोड़कर विधवा बनने का ढोंग भी रचा गया। यही नहीं उसके बाद बाकायदा एक शोक सभा भी आयोजित की गई। वहीं शादी के 6 दिन बाद स्टूडेंट को घर भेज दिया। स्टूडेंट ने घर लौटने के बाद परिवार वालों को आपबीती सुनाई। शिकायत के बाद जालंधर के डीएसपी गुरमीत सिंह ने कहा कि इस तरह की शादी हुई है और मामला पुलिस विभाग के संज्ञान में है। उन्होंने कहा कि वह मामले की जांच करवा रहे हैं क्योंकि घरवालों की सहमति के बिना बच्चे को गलत तरीके से घर में रोके रखना अपराध है, शादी भले ही प्रतीकात्मक हो लेकिन नाबालिग के साथ विवाह रचाना गैर कानूनी है।