UP Election 2022: ओवैसी(AIMIM) ने अपने प्रत्‍याशियों की पहली सूची जारी की

Hdnlive|UP Election 2022: उत्तर प्रदेश विधानसभा चुनाव (UP Assembly Election 2022) के लिए हैदराबाद के सांसद असदुद्दीन ओवैसी (Asaduddin Owaisi) की पार्टी ऑल इंडिया मजलिस-ए-इत्तेहादुल मुस्लिमीन (AIMIM) ने अपने प्रत्‍याशियों की पहली सूची जारी कर दी है. पार्टी की पहली सूची(AIMIM first list of candidates) में 9 सीटों के प्रत्‍याशियों के नाम हैं. इसमें पहले चरण के 8 और दूसरे चरण का एक प्रत्‍याशी शामिल है. उत्तर प्रदेश में 7 चरणों में होने वाले चुनाव में पहला चरण पश्चिम से शुरू हो रहा है. इस चरण के लिए लगभग सभी राजनीतिक पार्टियां अपने प्रत्याशियों के नामों का ऐलान भी कर दिया है. वहीं, आज एआईएमआईएम ने भी अपनी पहली सूची जारी कर दी है.

गठबंधन की उम्‍मीद खत्‍म
बता दें असदुद्दीन ओवैसी की पार्टी उत्तर प्रदेश में 100 विधानसभा सीटों पर चुनाव लड़ रही है. आज 9 प्रत्याशियों के ऐलान के साथ ही पार्टी ने प्रदेश में गठबंधन की सियासत के फलसफे को भी खत्म कर दिया है. खबरों की मानें तो असदुद्दीन ओवैसी लगातार समाजवादी पार्टी से संपर्क में रहे और वह चाहते थे कि समाजवादी पार्टी के साथ गठबंधन हो जाए, लेकिन सपा सुप्रीमो अखिलेश यादव ने ओवैसी की पार्टी पर कोई भरोसा नहीं किया. अब उनकी पार्टी अकेले चुनावी मैदान में है.

इससे पहले असदुद्दीन ओवैसी के साथ ओमप्रकाश राजभर ने मिलकर भागीदारी संकल्‍प मोर्चा का ऐलान किया था. यह मोर्चा लंबे समय तक नहीं चल पाया, लिहाजा राजभर अखिलेश यादव की साइकिल पर सवार हो गए. इसके बाद ओवैसी को उम्मीद थी कि राजभर अपने साथ उन्हें भी ले जाएंगे और कुछ सीटों पर रजामंदी के साथ सपा के गठबंधन में चुनाव लड़ेंगे, लेकिन अखिलेश ने ओवैसी की पार्टी को गले लगाने से परहेज किया. नतीजा यह रहा कि पार्टी इस बार उत्तर प्रदेश के चुनाव में अकेले ही ताल ठोक रही है. उत्तर प्रदेश की 9 सीटों पर प्रत्याशियों का ऐलान किया है, जो कि मुस्लिम हैं.

AIMIM ने यूपी चुनाव के लिए ये हैं पहले 9 प्रत्‍याशी

  1. डॉ. मेहताब-लोनी, गाजियाबाद
  2. फुरकान चौधरी-गढ़ मुक्तेश्वर, हापुड़
  3. हाजी आरिफ-धौलाना, हापुड़
  4. रफत खान-सिवाल खास, मेरठ
  5. जीशान आलम-सरधना, मेरठ
  6. तसलीम अहमद – किठौर, मेरठ
  7. अमजद अली-बहत, सहारनपुर
  8. शाहीन रजा खान (राजू) – बरेली-124, बरेली
  9. मरगूब हसन-सहारनपुर देहात, सहारनपुर

हालांकि देखना दिलचस्प होगा कि मुस्लिम वोट की सियासत में असदुद्दीन ओवैसी कितने सफल हो पाएंगे. उनकी पार्टी के प्रत्याशी कुछ गुल खिला पाएंगे यह सिर्फ मुस्लिम वोट बैंक पर उनकी सेंधमारी दूसरी राजनीतिक पार्टियों का नुकसान करेगी. 2022 के विधानसभा चुनावों में ओवैसी का दमखम देखने लायक है. उन्‍होंने इसके लिए उत्तर प्रदेश में खूब दौरे किए हैं. पश्चिम से लेकर पूर्व तक जमकर जनसभाएं की हैं. वहीं, मुसलमान मतदाताओं को जगाने की कोशिश की है. वह हमेशा कहते रहे हैं कि उत्तर प्रदेश के राजनीतिक पार्टियों ने मुसलमानों का वोट तो खूब लिया, लेकिन मुसलमानों को रहनुमाई नहीं दी. अब बदलाव का वक्त है. ओवैसी की रहनुमाई कितनी कारगर साबित होगी यह तो वक्त बताएगा.